रायगढ़ । पुलिस अधीक्षक रायगढ़ संतोष सिंह के मार्गदर्शन पर थाना प्रभारीगण द्वारा उनके क्षेत्र में निवासरत निराश्रित वृद्धजनों की सुध ली जा रही है। कोविड की दूसरी लहर दौरान पुलिस अधीक्षक द्वारा जरूरतमंदों के साथ-साथ विशेष रूप से सभी प्रभारियों को उनके क्षेत्र के निराश्रित वृद्धजनों से भेंट कर उनकी मदद करने निर्देशित किया गया था जिस पर सभी थानाक्षेत्र अन्तर्गत अभियान स्वरूप हजारों निराश्रित वृद्धजनों को सूखा राशन व उपयोगी सामग्रियों का वितरण प्रभारियों द्वारा किया गया था, जिससे कुछ राहत उन्हें मिली।

थाना प्रभारी भूपदेवपुर निरीक्षक उत्तम साहू, कोविड की प्रथम लहर दौरान मजदूर वर्ग की परेशानी को करीब से देखे थे, इस कारण वे कोविड की दूसरी लहर में मजदूर वर्ग के लोगों तक मदद पहुंचाने में लगे थे। इसी दरम्यान उन्हें जिला मुंगेली निवासी राकेश त्रिवेदी (उम्र 75 वर्ष) की व्यथा पता चली। वृद्ध राकेश त्रिवेदी जो पिछले 55 सालों से अपने परिवार से दूर रायगढ़ जिले में होटल, ढाबो में काम कर गुजर बसर कर रहा था, लेकिन लॉक डाउन में होटल ढाबा बंद होने के कारण उसके सामने भूखों मरने की स्थिति थी। ऊपर से उसकी दोनों आंखों में मोतियाबिंद होने से उसे दिखना बंद हो गया था।

वृद्ध लाचार होकर रेलवे स्टेशन भूपदेवपुर के प्लेटफार्म को अपना अस्थाई निवास बनाकर रह रहा था। ऐसे में बुजुर्ग व्यक्ति को थाना प्रभारी उत्तम साहू लॉकडाउन के डेढ माह तक उसे दोनों समय का भोजन उपलब्ध कराये बल्कि समय-समय पर उसे देखने पहुंच जाते। वृद्ध के कमजोरी से उबरने पर टीआई साहू द्वारा उसे रायगढ स्थित सिद्धेश्वर नेत्रालय में ले जाकर उसके मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराया गया, और आगे भी उसके भोजन आदि की व्यवस्था करा रहे हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें