नगरीय प्रशासन मंत्री ने किया 15 करोड़ 78 लाख रुपए के विकास कार्यों का भूमिपूजन

रायपुर ।  नगरीय प्रशासन एवं विकास तथा श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने नगर पंचायत राजिम के विकास के लिए सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट निर्माण, विभिन्न वार्डों में सीसी रोड़ एवं नाली निर्माण कार्य तथा पौनी पसारी योजना अंतर्गत बाजार निर्माण कार्य का भूमिपूजन किया। उन्होंने लगभग 15 करोड़ 78 लाख रुपए के विकास कार्यों का भूमिपूजन किया। वर्चुअल समारोह में शामिल होकर उन्होंने कहा कि नगरीय निकाय में लोगों को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराना और विकास कार्यों से जोड़कर उन्हें लाभान्वित करना हमारी प्राथमिकता है।

इस दौरान उन्होंने आगे कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में प्रदेश में विकास की बुनियाद रखी जा रही है। राजिम नगर पंचायत के विभिन्न वार्डो में नाली निर्माण और 25 लाख 25 लाख  हजार रुपए की लागत से बनने वाले पौनी पसारी योजना अंतर्गत बाजार से परम्परागत व्यवसाय से जुडे़ परिवारों को एक निश्चित स्थान मिल पाएगा और वे रोजगार से जुड़ पाएंगे। उन्होंने कहा कि इन कार्यों का लाभ क्षेत्र के लोगों को मिलेगा। क्षेत्र में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट की स्थापना से सफाई सुनिश्चित होगी और नाली का गंदा पानी नदी में नहीं बहेगा।

उन्होंने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में विकास कार्य के लिए उनका विभाग सजग है। लोगों को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने की दिशा में हर सम्भव कोशिश की जा रही है। मंत्री डॉ डहरिया ने कहा कि कोरोना काल में भी विकास के कार्य होते रहे, इसी का परिणाम है कि राज्य की योजनाओं और राज्य स्तर पर हुए अनेक कार्यों की पहचान राष्ट्रीय स्तर पर बढ़ी है। भारत सरकार द्वारा स्वच्छता, शहरी आवास सहित अन्य मामलों में छत्तीसगढ़ को पुरस्कृत किया गया है। उन्होंने आगे कहा कि नगरीय निकायों को सरकार लगातार सहयोग कर रही है। कोरोना संक्रमण की रोकथाम को ध्यान रखते हुए नगर पंचायत राजिम द्वारा वर्चुअल भूमिपूजन समारोह का आयोजन किया गया। वर्चुअल समारोह में मुख्य अतिथि डॉ. शिवकुमार डहरिया, नगरीय प्रशासन एवं विकास तथा श्रम मंत्री महानदी भवन मंत्रालय से ऑनलाइन शामिल हुए।

कार्यक्रम में राजिम विधायक एवं पूर्व मंत्री अमितेष शुक्ल और नगर पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रेखा राजू सोनकर, उपाध्यक्ष श्रीमती रेखा कुलेश्वर साहू सहित पार्षद, एल्डरमेन आदि उपस्थित थे। मंत्री डॉ डहरिया ने क्षेत्र में बस स्टैण्ड सहित अन्य विकास कार्य के लिए मांगी गई राशि के संबंध में स्टीमेट बनाकर प्रस्तुत करने और हर सम्भव सहयोग देने की बात कही है। 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें