रायगढ़ । वैश्विक महामारी कोविड के द्वितीय चरण  में तेजी से फैलते हुए  संक्रमण को ध्यान में रखकर प्रसाशन के निर्देशानुसार बनोरा प्रबंधन ने निर्णय लिया है कि अघोर गुरु पीठ ट्रस्ट बनोरा  द्वारा छ.ग. के रायगढ, डभरा, शिवरीनारायण, अम्बिकापुर कोइलिजोर, चिरमिरी सरभोका, उत्तरप्रदेश के रेणुकूट खाड़पाथर, खानापट्टी जौनपुर, बिहार के औघड़ की मड़ई जिगना, झारखण्ड में राँची, आदर आदि में संचालित सभी शाखाओं में चैत्र नवरात्रि के अवसर पर होने वाले सभी आयोजन स्थगित रहेंगे । अघोर पंथ के समस्त श्रद्धालुओ से यह अनुरोध किया गया है कि वे अपने अपने घर पर ही शक्ति की आराधना करें। बनोरा आश्रम द्वारा लिए गए इस निर्णय की जानकारी भक्तजनों की दी गई है

यह बतांना लाजमी होगा कि कोरोना के प्रथम चरण के दौरान भी आश्रम में आयोजित होने वाले स्थापना दिवस, गुरुपूर्णिमा, पूज्य अघोरेश्वर के जन्मोत्सव व निर्वाण दिवस, होली मिलन समारोह से जुड़े समस्त आयोजन स्थगित रखे गए थे। आश्रम के सभी आयोजनो  में भारी भीड़ जुटती है। कोरोना में सोशल डिस्टनसिंग का पालन आवश्यक है। राष्ट्र निर्माण में बनोरा आश्रम अहम भूमिका का निर्वहन करता  रहा है l कोरोना से बचाव हेतु प्रबंधन ने समस्त भक्तजनों से यह अनुरोध किया है कि कोरोना से बचाव हेतु  जिला प्रशासन से मिलने वाले निर्देशों का पालन अवश्य करे। संकट के इस समय मे समस्त मानव जाति पर खतरा मंडरा रहा है l यह खतरा पूरी तरह से टला नही है कोरोना के बचाव हेतु वैक्सीन लगाने का अनुरोध भी प्रबंधन ने किया है। अपने निकटवर्ती केंद्र में आवश्यक निर्देशो का पालन करते हुए वैक्सिनेशन की प्रक्रिया  में सहयोगात्मक भूमिका का निर्वहन करना चाहिए। वैक्सिनेशन पूर्ण होने के बाद भी  मास्क लगाने हैंड सेनेटाइज करने व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन आवश्यक है। कोरोना की जाँच कराना आवश्यक बताया ताकि इसके इलाज के साथ साथ इसके फैलाव को रोका जा सके।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें