पीएचई सचिव ने जिले के अधिकारियों की वर्चुअल बैठक लेकर पेयजल स्थिति की समीक्षा की

रायपुर । लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी और जल जीवन मिशन संचालक एस. प्रकाश ने जिला स्तरीय अधिकारियों की वर्चुअल बैठक लेकर राज्य के ग्रामीण अंचल में पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था की वर्तमान स्थिति की गहन समीक्षा की। अधिकारियों से पेयजल योजनाओं की क्रियाशीलता के बारे में उन्होंने एक-एक कर जिलावार जानकारी ली। अधिकारियों को पेयजल स्रोतों की स्थिति का निरंतर निगरानी रखने के निर्देश दिए गए। बैठक में नल-जल योजनाओं की अद्यतन स्थिति की विशेष रूप से समीक्षा की गई। सचिव श्री परदेशी ने कार्यपालन अभियंताओं को कतिपय कारणों से बंद नल-जल योजनाओं को विशेष अभियान संचालित कर क्रियाशील करने के निर्देश दिए। सचिव श्री परदेशी ने कहा कि वर्तमान समय में ग्रामीण अंचल में स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित किया जाना विभाग की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसमें किसी भी तरह की उदासीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने अधिकारियों को पेयजल योजनाओं की स्थिति पर निरंतर निगरानी रखने के लिए विभाग के मैदानी अमले को अलर्ट करने के भी निर्देश दिए।

सचिव श्री परदेशी ने कहा कि बंद नल-जल योजनाओं को आगामी 15 दिवस के भीतर क्रियाशील कर इसकी रिपोर्ट भी मुख्य अभियंता एवं अधीक्षण अभियंता को प्रस्तुत करना संबंधित जिलों के कार्यपालन अभियंताओं की जिम्मेदारी होगी। उन्होंने मुख्य अभियंता एवं अधीक्षण अभियंता को पेयजल योजनाओं की स्थिति की समीक्षा हर पखवाड़े करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि गर्मी के मौसम में पेयजल समस्यामूलक इलाकों में पेयजल की आपूर्ति की व्यापक तैयारी की जानी चाहिए। उन्होंने हैण्ड पम्पों, स्थल एवं नल-जल योजनाओं के रख-रखाव एवं मरम्मत के लिए आवश्यक सामग्री तथा मोबाइल संधारण वाहन की व्यवस्था सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। 

सचिव श्री परदेशी ने बैठक में जल-जीवन मिशन के अंतर्गत प्रशासकीय स्वीकृति प्राप्त योजनाओं की निविदाओं की अद्यतन स्थिति एवं कार्यादेश संबंधी विस्तृत जानकारी ली और कार्यादेश शीघ्र जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने राज्य में पूर्व से संचालित 4907 नल-जल योजनाओं जिसमें रेट्रोफिटिंग के कार्य की आवश्यकता है। ऐसी योजनाओं को प्राथमिकता से प्रशासकीय स्वीकृति जिला जल एवं स्वच्छता मिशन से प्राप्त कर निविदा कार्य पूर्ण कर कार्यों में गति लाने के निर्देश दिए। श्री परदेशी ने स्कूल, आंगनबाड़ी, स्वास्थ्य केन्द्र एवं पंचायत भवनों में रनिंग वाटर के कार्यों को पंचायत के माध्यम से पूर्ण कराने के निर्देश दिए। उन्होंने अब तक पूर्ण कार्यों को भारत सरकार की विभागीय वेबसाईट में दर्ज करने के भी निर्देश दिए। 

बैठक के दौरान सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी ने कांकेर और रायगढ़ जिले में जल-जीवन मिशन के कार्यों के कार्यादेश जारी होने पर बधाई देते हुए सराहना की। मिशन संचालक एस. प्रकाश ने बैठक के दौरान जल गुणवत्ता परीक्षण में अब तक दर्ज प्रगति पर असंतोष व्यक्त किया और अब तक जांच किए गए स्त्रोतों की जानकारी अप्रैल माह 2021 के प्रथम सप्ताह तक वेबसाईट में दर्ज करने के निर्देश दिए। पंचायतों को फील्ड टेस्ट किट शीघ्र उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। इसके साथ-साथ सभी पंचायतों में 5 महिलाओं को टेस्टिंग संबंधी प्रशिक्षण देने के निर्देश और इसकी जानकारी वेबसाईट पर दर्ज करने के भी निर्देश दिए। इस अवसर पर प्रमुख अभियंता टी.जी. कोसरिया, मुख्य अभियंता ए.के. साहू एवं अतिरिक्त मिशन संचालक एफ.एम. मंडलोई सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें