कांग्रेसियों द्वारा कलेक्टर को सौंपे ज्ञापन को हास्यास्पद बता नेता प्रतिपक्ष पूनम का दावा सरकार आएगी तो होगा समस्याओं का निदान

रायगढ । पार्षद, विधायक, मंत्री, जिला पंचायत अध्यक्ष, महापौर, सभापति काँग्रेस के होने के बावजूद वरिष्ठ कांग्रेसियो द्वारा प्रदूषण सहित अन्य मामलों के लेकर जिलाधीश भीम सिंह को ज्ञापन सौंपे जाने के मामले में प्रतिक्रिया देते हुए नेता प्रतिपक्ष पूनम सोलंकी ने कहा कि भाजपा की सरकार में ही समस्याओं के समाधान की क्षमता है। काँग्रेस से जुड़े साथियों द्वारा अपनी सरकार होने के बावजूद ज्ञापन सौपना जनादेश का अपमान है। आम जनता के जनादेश का सम्मान करते हुए भाजपा नेत्री पूनम सोलंकी ने कहा कि अपनी ही सरकार को ज्ञापन सौपना हताशा का प्रमाण है।

कांग्रेस के जन प्रतिनिधियों व संगठन के पदाधिकारियों द्वारा ज्ञापन सौपे जाने से यह बात स्पष्ट हो गई है कि बहुमत के बाद भी विधायको व मंत्री के पास समस्याओ का निदान संभव नही। कांग्रेसियो के लिए यह जिला नेतृत्व विहीन हो गया। बढ़ता प्रदूषण, बढ़ती दुर्घटनाओं के लिये भाजपा के 15 साल की सत्ता को दोष देना अपनी समस्या दूसरे के सर मढ़ने जैसा है। अपनी ही सत्ता को ज्ञापन सौपना काँग्रेस सरकार की अक्षमता का प्रमाण है।

पूनम सोलंकी ने मीडिया से जानकारी साझा करते हुए कहा कि मैंने बढ़ते प्रदूषण व सड़को की बदहाली को लेकर निरन्तर सवाल उठाए है लेकिन काँग्रेस उनका जवाब देने की बजाय मुँह छुपा रही है। जिला पंचायत अध्यक्ष निराकार पटेल के नेतृत्व में बढ़ते प्रदूषण व सड़क दुर्घटनाओ व अन्य समस्याओं को लेकर सौपे ज्ञापन से यह बात स्पष्ट हो गई है कि समस्याओ का समाधान का सामर्थ्य भाजपा के पास ही है। सौपे गए ज्ञापन को ढाई-ढाई साल वाले फार्मूले की वजह से उत्पन्न गुटबाजी की परिणीति बताते हुए पूनम सोलंकी ने कहा कि यदि बढ़ते प्रदूषण को लेकर इतनी ही चिंता थी तो राज्य सरकार ने एक दर्जन से अधिक औद्योगिक इकाइयों को विस्तार की अनुमति ही क्यो दी? गुलगुला खाकर गुड़ से परहेज करने वाली सरकार में हिम्मत है तो प्रदूषण फैलाने वाले उद्योगों पर कार्यवाही करके दिखाए। प्रदूषण नियंत्रण के लिए केवल प्रदूषण मापी यंत्र लगा कर वाहवाही लूटने वाले आम जनता के सामने आकर स्पष्ट करे कि क्या थर्मामीटर लगाने मात्र से बुखार नियंत्रित हो सकता है?

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें