रायगढ़ । अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर जिंदल स्टील एंड पॉवर लिमिटेड में अधिकारी-कर्मचारियों ने योग—ध्यान किया। कोरोना प्रोटोकॉल का पालन और फिजिकल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए 45 मिनट तक चले अभ्यास के दौरान सीओओ छत्तीसगढ़ दिनेश कुमार सरावगी एवं चीफ एचआर ऑफिसर पंकज लोचन सहित सभी विभाग प्रमुखों एवं जिंदल लेडिज क्लब की पदाधिकारियों ने उत्साहपूर्वक विभिन्न योगासन किए। बड़ी संख्या में जेएसपीएल परिवार के सदस्यों ने घर पर ही रहकर वर्चुअल माध्यम से योग दिवस समारोह में हिस्सा लिया।

जेएसपीएल द्वारा सोमवार को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस अवसर पर सुबह 6:30 बजे से 7:15 बजे तक 45 मिनट के योगाभ्यास का कार्यक्रम जिंदल लाइफ इनहेंसमेंट सेंटर के लॉन में रखा गया। सुबह तय समय पर जेएसपीएल परिवार के चुनिंदा सदस्य योग के लिए पहुंचे। कोरोना प्रोटोकॉल का ध्यान रखते हुए फिजिकल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए न्यूनतम लोगों ने ही इस कार्यक्रम में शिरकत की। इसमें जेएसपीएल के सीओओ छत्तीसगढ़ दिनेश कुमार सरावगी एवं सीएचआरओ पंकज लोचन सहित सभी विभागों के प्रमुख शामिल थे। जिंदल लेडिज क्लब की अध्यक्षा श्रीमती सुजाता सरावगी सहित लेडिज क्लब की पदाधिकारी एवं सदस्य भी आयोजन में शामिल हुईं। सभी ने विभिन्न योगासनों का अभ्यास किया। अनुलोम-विलोम, प्राणायाम से लेकर सूर्य नमस्कार और विभिन्न आसनों का अभ्यास किया गया।

अभ्यास के बाद जेएसपीएल के कार्यपालन निदेशक दिनेश कुमार सरावगी ने योग के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भारतीय परंपरा में प्राचीन काल से ही योग को जीवन का महत्वपूर्ण अंग माना गया है। आज की व्यस्त दिनचर्या के बीच योग का महत्व और भी बढ़ जाता है। इससे हम अपने शरीर को विभिन्न बीमारियों से बचाने के साथ ही अपनी आंतरिक शक्ति को भी मजबूत कर सकते हैं। इससे हमें अपने जीवन में संयम, अनुशासन और समर्पण की प्रेरणा भी मिलती है। उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया योग की ताकत को मान रही है। यह हमारे लिए गर्व का विषय है। इस दौरान सभी ने योग को अपनी जीवनचर्या का हिस्सा बनाते हुए नियमित तौर पर योग करने का संकल्प लिया।

योग से निरोग रहें, स्फूर्ति बनी रहेगी और मन शांत रहेगाः नवीन जिन्दल

जेएसपीएल के चेयरमैन और पूर्व सांसद नवीन जिन्दल ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की बधाई देते हुए अपने संदेश में कहा है कि योग का नियमित अभ्यास करके स्वस्थ रहें, क्योंकि इससे शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है और मन शांत रहता है। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर प्रातः योगाभ्यास के बाद दिये अपने संदेश में श्री जिन्दल ने कहा कि योग दो दशक से उनके जीवन का अभिन्न अंग है। योगाभ्यास से उनके शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है और मन भी शांत रहता है। उन्होंने एक खिलाड़ी के रूप में निशानेबाजी और पोलो में अपने बेहतर होते प्रदर्शन का श्रेय योग को दिया।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें