अति पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेन्स में दी जानकारी
पतासाजी में लगी थी पुलिस टीम, झारखंड में पकड़ा गया आरोपी
आरोपी से एक देशी कट्टा, एक 7 MM पिस्टल 05 राउंड सहित और 02 जिंदा कारतूस जप्त
घटना में शामिल एक आरोपी अनिल तिर्की अब भी फरार, जल्द गिरफ्तारी की संभावना

रायगढ़। थाना धरमजयगढ़ अन्तर्गत ग्रामीण बैंक खम्हार के बैंक कैशियर विनोद लड़का को लूटपाट के लिये “पेशेवर रविवादी गैंग” के 06 आरोपियों द्वारा फूलप्रूफ तैयारी कर 01 मार्च 2021 को धरमजयगढ़ से खम्हार मार्ग पर घटना को अंजाम दिया गया था पर आरोपियों के हाथ लूटपाट में कुछ नहीं आया, अच्छी बात यह रही कि आरोपियों द्वारा चलाई गई दो गोली में एक गोली  कैशियर विनोद लड़का के दाहिने कंधे के नीचे लगी, ईलाज के बाद आहत विनोद लकड़ा खतरे से बाहर हैं। घटना के संबंध में थाना धरमजयगढ़ में अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध अप.क्र. 42/2021 धारा 394,307 भादवि 25, 27 आर्म्स एक्ट पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया था।

गोलीकांड की इस घटना पर तत्काल एक्शन में आयी जिला पुलिस दो सप्ताह की सघन जांच पड़ताल में कोरबा जेल में निरूद्ध कुख्यात आरोपी रविवादी के जेल से नेटवर्क चलाने की जानकारी मिली, रविवादी द्वारा खम्हार बैंक कैशियर को लूटपाट करना साफ्ट टारगेट बताया गया था तब आरोपी अंजुलस एक्का और संदीप राठिया द्वारा घटना के पूर्व क्षेत्र की रेकी कर घटना को अंजाम दिये थे। शातिर आरोपियों द्वारा पुलिस के लिये कोई भी इलेक्ट्रानिक साक्ष्य कॉल डिटेल, सीसीटीवी फुटेज आदि नहीं छोड़ा गया था फिर भी पुलिस की लगातार पूछताछ पर दो आरोपियों के रेकी करने की  जानकारी मिली जिसके बाद एक-एक कड़ियों को जोड़कर घटना के मास्टर मांइड अंजुलस एक्का और संदीप राठिया तक पहुंची और घटना में शामिल 04 अन्य आरोपियों का पता चला।

धरमजयगढ़ पुलिस द्वारा आरोपी 1-संदीप राठिया 2-अंजुलस एक्का 3-करनदास महंत 4- लाजरूस एक्का को गिरफ्तार कर उनके मेमोरेंडम पर एक नग पिस्टल, एक जिंदा कारतूस, एक लोहे का खुखरी, मोबाइल, 03 बाइक, नकदी 2000 रूपये एवं आहत विनोद लकड़ा का आधार कार्ड, तीन बैंक पासबुक, बैग आरोपियों के मेमोरंडम पर बरामद किया गया था । घटना के बाद से घटना में शामिल आरोपी कल्याण खाखा निवासी झारखंड एवं अनिल तिर्की निवासी लेमरू कोरबा फरार थे।

पुलिस अधीक्षक रायगढ़ के दिशा निर्देशन पर फरार दोनों आरोपियों की पतासाजी, गिरफ्तारी के लिये एसडीओपी धरमजयगढ़ सुशील नायक के नेतृत्व में 03 पुलिस टीमें आरोपियों के लेमरू, कोरबा और झारखंड में छिपे होने की सूचना पर लगातार छापेमारी किया जा रहा था। अन्तत: झारखंड रवाना हुई टीम को गुमला झारखंड में आरोपी कल्याण खाखा को गिरफ्तार करने में सफलता मिली। आरोपी को पुलिस टीम द्वारा हिरासत में लेकर धरमजयगढ़ लाया गया जिससे पूछताछ कर मेमोरेंडम कथन लिया गया।

आरोपी कल्याण ठिठियो उर्फ कल्याण खाखा पिता पुलिन्दर ठिठियो उम्र 23 साल निवासी ग्राम उदनी थाना डुमरी जिला गुमला (झारखंड) बताया कि घटना के 8-10 दिन पहले अंजुलस एक्का का भाई लाजरूस एक्का मोबाइल पर कॉल कर लेमरू कोरबा बुलाया था। वहां अंजुलस बैंक कैशियर को लूटना है, 15 से 20 लाख रूपये तक मिल सकता है। घटना के 4-5 दिन पहले अंजुलस और संदीप राठिया बैंक आसपास रेकी किये थे, उनके साथ रेकी में गया था। आरोपी  कल्याण ने यह भी बताया कि लूटपाट के लिए 28 फरवरी को संदीप के मौसी के घर सरदुला में अंजुलस, लाजरूस, अनिल तिर्की, संदीप राठिया, करन राठिया के साथ बैठकर लूटपाट की प्लानिंग किये थे और दूसरे दिन दिनांक 01.03.2021 को सुबह जब घटना को अंजाम देने निकले तो एक देशी कट्टा जिसमें एक गोली कल्याण रखा था। संदीप राठिया एक पिस्टल जिसमें 02 नग 9 MM  की गोली थी, अंजुलस एक्का एक 7MM का पिस्टल जिसमें 05 राउंड था, करन एक देशी कट्टा जिसमें 01 गोली था पकड़े हुये थे। तीन बाइक पर कैशियर का पीछा करते हुए दर्राघाटा के आगे मिरीगुड़ा के पास संदीप पिस्टल से कैशियर को गोली मारा उसे गोली नहीं लगी। तब कैशियर को अपने पास रखे देशी कट्टे से गोली चलाया जो कैशियर के दाहिने कंधे में लगा। बैग लूटने के बाद बताती में बैग को खोल कर देखें बैग में रुपए नहीं था।

आरोपी कल्याण ने यह भी बताया कि घटना के बाद अंजुलस एक्का के घर पर था। अपना देशी कट्टा तथा अंजुलस ने अपना 7 एमएम पिस्टल और लाजरूस को रखने दिये तो लाजरूस हथियारों को छिपाने के लिये अनिल तिर्की को दिया था। अनिल तिर्की अपने घर के पेड़ के खोखले में हथियारों को छिपा दिया था  जिसके बाद झारखंड भाग गया था। आरोपी के मेमोरंडम पर एक देशी कट्टा जिससे कैशियर पर फायर किया गया और 7 एमएम पिस्टल, 05 राउंड सहित तथा 02 और गोली (303 व 7.62 रायफल  की) बरामद किया गया है। घटना में शामिल आरोपी अनिल तिर्की फरार है जिसके संबंध में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी हासिल हुई है, आरोपी की सरगर्मी से पतासाजी की जा रही है, शीघ्र फरार आरोपी के गिरफ्तार होने की सम्भवाना है। वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन पर धरमजयगढ़ पुलिस को फरार आरोपी गिरफ्तारी करने में सफलता मिली है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें