वीडियो संदेश जारी कर प्रदेश वासियों को दिया संदेश

नवरात्र के दौरान शक्ति की मौन साधना के बाद कोइलीजोर आश्रम में बाबा प्रियदर्शी ने जारी वीडियो संदेश में प्रदेश वासियो का आह्वान करते हुए कहा कि प्रार्थना में शक्ति निहित होती है। संकट के इस समय मे सभी मिलकर माँ भगवती से कोरोना महामारी की मुक्ति हेतु सामूहिक प्रार्थना करे। आदि शक्ति की आराधना से  मानव कल्याण का मार्ग प्रशस्त होगा।

नवरात्र के पश्चात वीडियो संदेश के जरिये आशीर्वचन में कहा एक बार फिर मानव समाज की अज्ञानता कोरोना महामारी को शक्तिशाली बनाने में मददगार भूमिका निभा रही है। मास्क की अनिवार्यता हैंड सेनेटाइजेशन व सोशल डिस्टेंसिंग के जरिये इस महामारी को आसानी से रोका जा सकता है। अपने शरीर को कोरोना संक्रमण से बचाये रखने के लिए आवश्यक है कि शासन द्वारा बताई जा रही गाइड लाईन का गंभीरता से पालन सुनिश्चित करे। द्वितीय लहर में  कोरोना शरीर के अंदर  प्रवेश होते ही घातक व जानलेवा साबित हो रहा है।  इसके दुष्परिणाम से बचने का उपाय समय रहते सबको अवश्य करना चाहिए। फेफड़ों को मजबूत करने वाले योगा अभ्यास के साथ गर्म पानी का सेवन व संतुलित आहार लेना आवश्यक है।

सरकार द्वारा जारी निर्देशो के उलंघन की वजह से कोरोना संक्रमण तेजी से फैल कर जानलेवा साबित हो रहा है। वतर्मान समय गाइड लाईन का निष्ठा पूर्वक पालन करने के साथ वैक्सिनेशन से भी कोरोना के दुष्प्रभाव को खतरनाक होने से रोका जा सकता है। कोरोना हेतु गाईड लाईन का पालन कर हम राष्ट्र निर्माण में सहभागी बन सकते है। इसके लिए मास्क की अनिवार्यता व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन आवश्यक है। अपने पास हर समय मास्क व हैंड सेनेटाइजर रखकर जिम्मेदार नागरिक होने का परिचय देवे।

संकट के इस दौर में दल गत राजनीति व धर्म से ऊपर उठकर मानवता का परिचय देने की अपील भी बाबा प्रियदर्शी राम जी ने की है। गाईड लाईन का पालन करने से न केवल स्वयं को  कोरोना से बचा सकते है यह बचाव स्वास्थ्य सेवाओं पर बढ़ते दबाव को कम करेगा। संक्रमित व्यक्ति स्वयं के परिवार के लिए खतरा बनेगा साथ ही स्वास्थ्य सेवाओं पर भी अंतहीन दबाव बनाएगा। प्रदेश के नागरिकों से उन्होने मानवतावादी नजरिया अपनाए जाने की अपील करते हुए कहा कि संकट की इस घड़ी में पीड़ित मानवों की सेवा के जरिये मानवता की मिसाल पेश करें।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें