वर्चुअल भूमिपूजन एवं शिलान्यास में केन्द्रीय मंत्री को आमंत्रित न करना राज्य सरकार की संकुचित मानसिकता का परिचायक

रायगढ़ । रायगढ़ सांसद श्रीमती गोमती साय ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों शुद्ध जल की व्यवस्था के लिए केंद्र सरकार की जनकल्याणकारी योजना जल जीवन मिशन (ग्रामीण) के तहत छत्तीसगढ़ सरकार को बजट आबंटित किया गया हैं। जिसके क्रियान्वयन में 22 जून को जल जीवन मिशन के तहत जशपुर जिले सहित विकास कार्यो का मुख्य मंत्री भुपेश बघेल द्वारा वर्चुअल उद्घाटन किया गया।

जिस पर सांसद श्रीमती साय ने कहा कि जल जीवन मिशन केंद्र सरकार की योजना है और राज्य सरकार केंद्र सरकार की योजना का वर्चुअल उद्घाटन करके श्रेय लेने में जुटी है। जब वर्चुअल उद्घाटन ही हो रहा था तो वर्चुअल उद्घाटन में जल जीवन मिशन के केंद्रीय मंत्री को उद्घाटन में क्यों आमंत्रित नहीं किया। उन्हें इस उद्घाटन से क्यों वंचित रखा गया। केंद्र का पैसा, केंद्र की योजना और केंद्रीय मंत्री को ही कार्यक्रम से दूर रखना सरकार की अशोभनीय कृत्य है।

सांसद ने कहा कि जब वर्चुअल भूमिपूजन एवं उदघाट्न में मंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एंव ग्रामोद्योग विभाग, जिले के प्रभारी मंत्री, लोकसभा सांसद, जिले के समस्त विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष एवं अन्य जनप्रतिनिधगण को आमंत्रित किया गया तो जो केंद्र सरकार की योजना है, बजट है उसके केंद्रीय मंत्री को जानकारी देकर आमंत्रित न करना राज्य सरकार की संकुचित मानसिकता को दर्शाता है।

ज्ञात हो कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्धारा 22 जून 2021 को वर्चुअल के माध्यम से कलेक्ट्रेट के एनआईसी कक्ष में जल जीवन मिशन के अंतर्गत जशपुर जिले सहित पूरे छत्तीसगढ़ में विभिन्न विकास कार्यो का भूमि पूजन और शिलान्यास किया गया।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें